राजस्थान भाजपा काट सकती है 50-55 मौजूदा विधायकों के टिकट

राजस्थान भाजपा काट सकती है 50-55 मौजूदा विधायकों के टिकट
Add caption


राजस्थान में विधानसभा चुनाव की गहमागहमी शुरू हो गई है, एक तरफ कांग्रेस जहां सत्ता में आने की कोशिश कर रही है वहीं दूसरी ओर भाजपा अपने वर्चस्व को दूसरे कार्यकाल की ओर विस्तारित करने में लगी है।

राजस्थान विधानसभा चुनाव में इस बार भाजपा कई मुश्किलों से जूझ रही है, सत्ता विरोधी रुझान से जूझ रही भाजपा को नई रणनीति बनाने पर मजबूर कर दिया है, सूत्रों के मुताबिक इस बार भाजपा के मौजूदा 160 विधायकों में से करीब 50-55 विधायकों के टिकट काटे जा सकते हैं।

ऐसा होता है तो किसी भी पार्टी में मौजूदा विधायकों के टिकट काटे जाने की यह सबसे बड़ी संख्या होगी, इस कदम के साथ पार्टी दूसरे राज्यों के विधायकों और भाजपा सांसदों को सख्त संदेश देना चाहती है कि अगर उनका परफॉर्मेंस सही नहीं रहा तो उनके टिकट भी कट सकते हैं।

भाजपा के मौजूदा विधायकों और सांसदों का फीडबैक लगातार लिया जा रहा है, नमो ऐप के जरिए भी इनका फीडबैक जमा किया जा रहा है, इस ऐप के जरिए लोग अपने विधायकों-सांसदों के बारे में सीधे पीएम मोदी को बता सकते हैं।

सत्ता विरोधी लहर के मद्देनजर पार्टी पहली बार चुनाव मैदान में बड़ी संख्या में युवा उम्मीदवारों को खड़ा कर सकती है, इसके पीछे रणनीति ये है कि लंबे समय से पार्टी की सेवा कर रहे लोगों को मौका मिले और जनता के सामने उन्हें ज्यादा गुस्से का सामना भी न करना पड़े।

मौजूदा विधायकों के खिलाफ जनता में गुस्सा नजर आ रहा है, सर्वे में बताया गया है कि इस बार राजस्थान में कांग्रेस की सरकार आना तय है, भाजपा ने 2013 में प्रचंड बहुमत हासिल कर सरकार बनाई थी, लेकिन इस बार बाजी पलटती नजर आ रही है।

भाजपा को सत्ता विरोधी रुझान का सामना करना पड़ रहा है और कांग्रेस ने सचिन पायलट और अशोक गहलोत की अगुवाई में भाजपा को घेरना शुरू कर दिया है, राजस्थान 7 दिसंबर को मतदान होगा, राजस्थान में भाजपा ने साल 2013 में कांग्रेस को हराकर सत्ता छीनी थी।

कांग्रेस वापसी की कोशिश में है, सचिन पायलट और अशोक गहलोत पूरा जोर लगाए हुए हैं, वहीं, वसुंधरा राजे के सामने सरकार को बचाए रखने की बेहद कड़ी चुनौती है, राजस्थान में पहली बार वोट डालने वाले युवाओं का प्रतिशत राष्ट्रीय युवा वोटरों के मुकाबले बेहद कम है।

राजस्थान में 18-19 साल उम्र वाले 2.58 वोटर हैं वहीं राष्ट्रीय औसत 4.22 है, राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने जानकारी दी, उन्होने बताया कि पहली बार वोट डालने वालों का कुल जनसंख्या का 4.22 फीसदी (76,799,760) होना चाहिए लेकिन राजस्थान में ये 2.58 फीसदी ही है, उन्होंने बताया कि मतदाता सूची में नाम जोड़ने का काम विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन भरने की आखिरी तारीख तक चलेगा।

इसे लेकर मुख्य चुनाव अधिकारी ने राजनीतिक दलों के साथ बैठक भी की, उन्होने कहा कि हमने उनसे गुजारिश की है कि वह बूथ स्तर पर अपने एजेंटों के जरिए हमें नए मतदाताओं को लेकर जानकारी दें ताकि हम सूची को दुरुस्त कर सकें।

राजस्थान की मौजूदा मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे एक शाही खानदान से ताल्लुक रखती हैं, वसुंधरा राजे राजस्थान की पहली महिला मुख्यमंत्री हैं, उनका जन्म 8 मार्च 1953 को मुम्बई में हुआ और वह ग्वालियर के राजघराने से हैं, उनके पिता जीवाजी राव सिन्धिया और मां विजया राजे सिन्धिया थे, वे मध्य प्रदेश के कांग्रेस नेता माधव राव सिंधिया की बहन हैं, उनका विवाह धौलपुर के एक जाट राजघराने में हुआ, तब से ही वे राजस्थान से जुड़ गईं थी।

वसुंधरा राजे 1984 में भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में शामिल हुई, 1987 में वसुंधरा राजे राजस्थान प्रदेश भाजपा की उपाध्यक्ष बनीं, 1998-1999 में अटलबिहारी वाजपेयी के मंत्रिमंडल में उन्हें जगह मिली, राजे को विदेश राज्यमंत्री बनाया गया, वसुंधरा राजे को अक्टूबर 1999 में फिर केंद्रीय मंत्रिमंडल में राज्यमंत्री के तौर पर स्वतंत्र प्रभार सौंपा गया।

भैरोंसिंह शेखावत के उपराष्ट्रपति बनने के बाद उन्हें राजस्थान में भाजपा राज्य इकाई का अध्यक्ष बनाया गया, आठ दिसम्बर 2003 को वह वसुंधरा राजे ने राजस्थान की पहली महिला मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली, वह चार बार विधायक रही हैं, वह 1985-90, 2003-08, 2008-13 और 2013 से 14वीं राजस्थान विधान सभा झालरापाटन से विधायक हैं, वह पांच बार लोकसभा की सदस्य रही हैं।

इसमें 9वीं लोकसभा में 1989-91 तक, 10वीं लोकसभा में 1991-96, 11वीं लोकसभा में 1996-98, 12वीं लोकसभा में 1998-99 तक और 13वीं लोकसभा में 1999-03 तक सांसद रहीं, इसके अलावा वसुंधरा राजे को प्रदेश की दो बार मुख्यमंत्री बन चुकी हैं, पहली बार 8 दिसंबर 2003 और दूसरी बार 13 दिसंबर 2013 को।
Share on Google Plus

About CR Team

Dainik Chamakta Rajasthan to provide lightning fast, reliable and comprehensive informative information to our visitors in the form of news and articles.

0 comments:

Post a Comment