दिल्ली में हड़ताल पर डीटीसी

दिल्ली में हड़ताल पर डीटीसी

आज दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) की कर्मचारी यूनियनें हड़ताल पर है। बताया जा रहा है कि हड़ताल के कारण डीटीसी की करीब 3500 बसें सड़कों से गायब हैं। कर्मचारी यूनियनों का दावा है कि ये हड़ताल पिछले 30 साल की सबसे बड़ी हड़ताल है।

पिछले कुछ दिनों से डीटीसी के कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारी अपनी कई मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं। स्ट्राइक कर्मचारी यूनियन का कहना है कि हमारी मांग पहले की तरह अभी भी अधूरी है। कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों को पक्का करने, समान काम के लिए समान वेतन, टर्मिनेट किए गए कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों को बहाल करने और डीटीसी बसों को लाए जाने की मांग है।

सरकार द्वारा एस्मा लागू करने के बाद भी कर्मचारी अपनी मांगों से पीछे हटने के मूड में नहीं हैं।

दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने आवश्यक सेवा रखरखाव अधिनियम (एस्मा), 1974 लगा दिया है।  इससे पहले वर्ष 2015 में डीटीसी के कर्मचारियों ने हड़ताल की थी। उस दौरान हड़ताल की वजह से आम यात्रियों को खासी दिक्कत का सामना करना पड़ा था। यात्रियों की दिक्कत को देखते हुए राज्य सरकार को एस्मा तक लागू करना पड़ा था। डीटीसी कर्मचारियों की हड़ताल का असर मेट्रो पर भी पड़ा था। आम दिनों की तुलना में उस दौरान मेट्रो में यात्रियों में कई गुना की बढ़ोतरी देखी गई थी।

डीटीसी कर्मचारियों की मानें तो हड़ताल के चलते यात्रियों को होने वाली तमाम परेशानी के लिए सरकार जिम्मेदार है. कर्मचारियों ने कहा है कि मंगलवार को डीटीसी के तमाम अनुबंधित कर्मचारी दिल्ली सचिवालय जाकर अपनी मांगों के लिए धरना देंगे. साथ ही, मांगे पूरी ना हो जाने तक यह लोग सचिवालय पर ही बैठे रहेंगे.

Share on Google Plus

About Team CR

Dainik Chamakta Rajasthan to provide lightning fast, reliable and comprehensive informative information to our visitors in the form of news and articles.

0 comments:

Post a Comment