दिल्ली की सड़कों पर उतरा देश का अन्नदाता

दिल्ली की सड़कों पर उतरा देश का अन्नदाता
किसानों को लेकर केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ आवाज बुलंद करने के लिए एक बार फिर से देशभर के किसान देश की राजधानी दिल्ली की सड़कों पर जमा हुए हैं. किसानों की कर्जमाफी और फसलों की लागत का डेढ़ गुना समर्थन मूल्य दिए जाने समेत कई मांगों को लेकर विभिन्न राज्यों के किसान (Kisan Mukti March) दिल्ली के रामलीला मैदान पहुंच गए हैं. दो दिवसीय किसान मुक्ति मार्च का आज यानी शुक्रवार को दूसरा और आखिरी दिन है और किसान आज अपनी मांगों को लेकर संसद मार्च करेंगे. किसानों ने सरकार और प्रशासन को चेताया है कि अगर उन्हें संसद की ओर जाने से रोका गया तो फिर वे न्यूड प्रदर्शन करेंगे. किसान (Kisan Mukti March) इस बार सिर्फ दो मांगों को लेकर यह आंदोलन कर रहे हैं. उनकी पहली मांग है कि उन्हें कर्ज से पूरी तरह मुक्ति दी जाए और दूसरी मांग में फसलों की लागत का डेढ़ गुना मुआवजा चाहते हैं. ऐतिहासिक रामलीला मैदान पर लाल टोपी पहने और लाल झंडा लिए किसानों ने 'अयोध्या नहीं, कर्ज माफी चाहिए' जैसे नारे लगाते दिखे.

किसानों के महा आंदोलन में पहुंचे सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि किसानों को भीख नहीं चाहिए, किसानों को उनका हक चाहिए. स्वामीनाथन आयोग लागू कीजिए.

दिल्ली के जंतर-मंतर पर किसानों के महा आंदोलन में हिस्सा लेने पहुंचे सीएम अरविंद केजरीवाल ने मोदी सरकार पर किसान विरोधी होने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि अगर स्वामीनाथन रिपोर्ट को नहीं लागू किया जाता है तो राजधानी की सड़कों पर आए यह किसान 2019 में कयामत ढा देंगे.

सीएम केजरीवाल ने कहा कि जिस देश के अंदर किसान आत्महत्या कर रहे हों, भुखमरी के कगार पर हों, ऐसा देश तरक्की नहीं कर सकता है. उन्होंने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार के राज में बॉर्डर पर खड़ा जवान दुखी है, खेत में मेहनत कर रहा किसान दुखी है. प्रधानमंत्री मोदी ने किसानों की पीठ में छुरा घोंपा है.

बीजेपी पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए केजरीवाल ने कहा कि मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दिया है कि स्वामीनाथन रिपोर्ट को लागू नहीं किया जा सकता है. अगर पांच महीने में सरकार हलफनामा वापस लेकर रिपोर्ट को लागू नहीं करती है तो यह किसान 2019 में बीजेपी के खिलाफ कयामत ढा देंगे.

केजरीवाल ने अपने भाषण के दौरान तीन मांगें कीं. इसमें पहली किसानों का कर्ज माफ करने की है. उन्होंने कहा कि देश के सभी किसानों का कर्ज माफ होना चाहिए.  बीजेपी सरकार को अपना वादा याद दिलाते हुए केजरीवाल ने कहा कि 2014 के चुनाव में बीजेपी ने कहा था कि किसानों की उपज की लागत 100 रुपए आएगी तो हम उसे 150 रुपए देंगे, लेकिन सरकार अपना वादा भूल गई. किसानों को उनकी फसल का पूरा दाम मिलना चाहिए. उन्होंने कहा कि किसानों को भीख नहीं चाहिए, किसानों को उनका हक चाहिए. अगर उनको उनका हक मिल जाएगा तो वह आपसे कर्ज माफी की मांग नहीं करेंगे. अपने बेटे-बेटी की शादी करेंगे. खुशहाल रहेंगे.

सरकार एमएसपी निर्धारित कर देती है, लेकिन बाजार में उनकी फसल को कम रेट पर खरीदा जाता है. सरकार एमएसपी के आधार पर ही किसानों की फसल खरीदे.  फसल बीमा योजना को फ्रॉड बताते हुए केजरीवाल ने कहा कि यह बीजेपी की डाका योजना है. किसानों से तीन साल में लाखों-करोड़ों रुपए ले लिए गए, बदले में उन्हें धोखा दिया गया. इस योजना के जरिए बीजेपी निजी कंपनियों को फायदा पहुंचा रही है.

दिल्ली सरकार के काम को याद दिलाते हुए केजरीवाल ने कहा कि हमने राज्य के किसानों को फसल बर्बाद होने पर 50 हजार रुपए प्रति हेक्टेअर की दर से मुआवजा दिया, अगर दिल्ली सरकार यह काम कर सकती है तो मोदी सरकार को मुआवजा देने में क्या दिक्कत है.

केजरीवाल ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि आपको जितनी चिंता अंबानी, अडाणी की होती है, अगर उसकी 10 फीसदी चिंता किसानों की हो जाए तो उनके दिन बहुर जाएंगे. स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू कीजिए वरना 2019 में सिर्फ अंबानी, अडाणी से वोट लीजिएगा.

राहुल गांधी ने कहा कि किसानों और युवाओं के लिए एक होना पड़ेगा। राहुल ने कहा, "देश का किसान आपके (मोदी के) दोस्त का अनिल अंबानी का विमान नहीं मांग रहा, वह सिर्फ अपना हक मांग रहा है। आज हिंदुस्तान के सामने दो बड़े मुद्दे हैं, पहला किसाने के भविष्य का मुद्दा और दूसरा युवाओं के रोजगार का। इनके भविष्य के लिए जनता को अगर मुख्यमंत्री या प्रधानमंत्री को बदलना पड़े तो बदल दो।

किसानों के मार्च को लेकर दिल्ली पुलिस ने खास इंतजाम किए हैं। कॉन्स्टेबल से लेकर सब इंस्पेक्टर रैंक के कुल 3500 पुलिसकर्मियों, बाहरी फोर्स की 21 कंपनी जिनमें 2 महिला कंपनी शामिल, इंस्पेक्टर से लेकर अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त रैंक के कुल 166 अफसरों को इस स्पेशल अरेंजमेंट ड्यूटी में लगाया गया है। कुछ जरूरी पुलिस थानों में रिजर्व पुलिस भी एक्टिव मोड पर रहेगी। स्पेशल सीपी नार्थ और साउथ सुपरविजन करेंगे। दोनों रेंज के संयुक्त पुलिस आयुक्त हालात पर नजर बनाए रखेंगे।

जयपुर से प्रकाशित एवं प्रसारित न्यूज़ पेपर

दैनिक चमकता राजस्थान

सम्बन्धित खबरें पढने के लिए यहाँ देखे
See More Related News
post business listing – Jaipur
Follow us: Facebook
Follow us: Twitter
Google Plus
Share on Google Plus

About Team CR

Dainik Chamakta Rajasthan to provide lightning fast, reliable and comprehensive informative information to our visitors in the form of news and articles.

0 comments:

Post a Comment