सीएम पद के लिए गहलोत और डिप्टी सीएम के लिए सचिन पायलट ने ली शपथ

सीएम पद के लिए गहलोत और डिप्टी सीएम के लिए सचिन पायलट ने ली शपथ - कांग्रेस ने अपने चुनावी घोषणापत्र में कर्जमाफी की घोषणा की थी, जिसे सरकार गठन के तुरंत बाद ही अमल में लाया गया. कांग्रेस ने पहले ही कहा कि था कि वे 10 दिनों से पहले ही किसानों का कर्ज माफ करेंगे. विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने अपने वचन पत्र में जनता से जो वादे किए थे, उनमें से सबसे अहम वादा किसानों की कर्जमाफी का ही था.

विधानसभा चुनाव में बंपर जीत हासिल करने वाली कांग्रेस पार्टी की नई सरकार का शपथ ग्रहण समारोह सोमवार को जयपुर के अल्बर्ट हॉल (Albert Hall) में हुआ। सबसे पहले अशोक गहलोत ने सीएम पद की शपथ ली। फिर युवा नेता सचिन पायलट ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ली। ये पहला मौका है जब प्रदेश के मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री ने अल्बर्ट हॉल में शपथ लेकर सत्ता संभालेंगे। इससे पहले तक राजभवन और जनपथ पर शपथ ग्रहण समारोह होते आए हैं। राज्यपाल कल्याण सिंह ने गहलोत और पायलट को शपथ ग्रहण करवाई। इस दौरान राहुल गांधी, मनमोहन सिंह, नवजोत सिंह सिद्धू, जोतिरादित्य सिंधिया, शरद पवार, कुमारी शैलजा, प्रफुल्ल पटेल, जतिन प्रसाद, अर्चना डालमिया, मल्लिकाअर्जुन खड़गे, हेमंत सोरेन, राज बब्बर, आनंद शर्मा, भुपिंदर हुड्डा सहित कांग्रेस के कई दिग्गज पहुंचे और विपक्षी दल से वसुंधरा राजे भी समारोह मे मौजूद रहीं।

सीएम पद के लिए गहलोत और डिप्टी सीएम के लिए सचिन पायलट ने ली शपथ

समारोह में शामिल होने आए राहुल गांधी ने बड़ी सादगी का परिचय दिया तथा लोगों से बात की तथा उनके हाल-चाल जाने। राहुल सुबह दिल्ली से जयपुर एयरपोर्ट पहुंचे। इतना ही नहीं उन्होंने एयरपोर्ट पर लोगों से बात की तथा उनके हाल-चाल जाने। राहुल ने उन्हें लेने आई बस के ड्राइवर से भी हाथ मिलाया। शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के बाद राहुल गांधी भोपाल के लिए रवाना हुए। जयपुर एयरपोर्ट पहुंचने पर राहुल गांधी ने समय निकालकर यात्रियों से बात की। राहुल ने व्हील चेयर पर बैठीं एक महिला से बात की तथा उनकी कुशलक्षेम पूछी। इस दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी राहुल के साथ थे।

सीएम पद के लिए गहलोत और डिप्टी सीएम के लिए सचिन पायलट ने ली शपथ - इन सब के साथ गहलोत और पायलट का परिवार भी इस शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुआ। एक तरफ जहां अशोक गहलोत की पत्नी सुनीता गहलोत, बेटी सोनिया, बेटा वैभव गहलोत, बहू हिमांशी गहलोत और पोती कास्वनी शामिल हुए। वहीं सचिन पायलट के परिवार से मां रमा, पत्नी सारा, बहन सारिका और दो बेटे वीहान और आरान पायलट शामिल हुए।

शपथ ग्रहण के दौरान दोनों परिवारों के लिए अलग से बैठने की व्यवस्था की गई। अल्बर्ट हॉल पहुंचने वाले नेताओं ने दोनों के परिवार को जीत की बधाई दी। वहीं इस दौरान रामनिवास बाग में सचिन पायलट और अशोक गहलोत के लिए खूब नारे लगे। इस दौरान कार्यकर्ता कांग्रेस के रंग में रंगे भी दिखाई दिए।

अशोक गहलोत, मुख्यमंत्री
मैं अशोक गहलोत, ईश्वर की शपथ लेता हूं कि मैं विधि द्वारा स्थापित भारत के संविधान के प्रति, सच्ची श्रद्धा और निष्ठा रखूंगा। मैं भारत की प्रभुता, और अखंडता अक्षुण रखूंगा। मैं भारत के राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में अपने कर्तव्यों का श्रद्धा पूर्वक और शुद्ध अंतःकरण से निर्वहन करूंगा तथा मैं भय या पक्षपात, अनुराग या द्वेश के बिना सभी प्रकार के लोगों के प्रति संविधान और विधी के अनुसार न्याय करूंगा।

मैं अशोक गहलोत, ईश्वर की शपथ लेता हूं कि जो विषय राजस्थान राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में मेरे विचार के लिए लाया जाएगा, अथवा मुझे ज्ञात होगा उसे किसी व्यक्ति या व्यक्तियों को तब के सिवाय जबकि ऐसे मंत्री के रूप में अपने कर्तव्यों के समयक निर्वहन के लिए ऐसा करना अपेक्षित होगा, मैं प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से संसूचित या प्रकट नहीं करूंगा।

सचिन पायलट, उप मुख्यमंत्री
मैं सचिन पायलट, ईश्वर की शपथ लेता हूं कि मैं विधि द्वारा स्थापित भारत के संविधान के प्रति, सच्ची श्रद्धा और निष्ठा रखूंगा। मैं भारत की प्रभुता, और अखंडता अक्षुण रखूंगा। मैं भारत के राज्य के मंत्री के रूप में अपने कर्तव्यों का श्रद्धा पूर्वक और शुद्ध अंतःकरण से निर्वहन करूंगा तथा मैं भय या पक्षपात, अनुराग या द्वेश के बिना सभी प्रकार के लोगों के प्रति संविधान और विधी के अनुसार न्याय करूंगा।

मैं सचिन पायलट, ईश्वर की शपथ लेता हूं कि जो विषय राजस्थान राज्य के मंत्री के रूप में मेरे विचार के लिए लाया जाएगा, अथवा मुझे ज्ञात होगा उसे किसी व्यक्ति या व्यक्तियों को तब के सिवाय जबकि ऐसे मंत्री के रूप में अपने कर्तव्यों के समयक निर्वहन के लिए ऐसा करना अपेक्षित होगा, मैं प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से संसूचित या प्रकट नहीं करूंगा।

2014 के लोकसभा में राजस्थान के कांग्रेस से साफ हो जाने और खुद अपना चुनाव हारने के बाद सचिन पायलट ने एक कसम खाई थी, वह कसम अब पूरी हो गई है। सचिन ने कसम खाई थी कि कांग्रेस सत्ता में लौटेगी तभी वह अपने सिर पर साफा बांधेंगे। सोमवार को उपमुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने पहुंचे सचिन ने अपने सिर पर साफा बांधा। सोमवार को शपथ के समय उन्होंने पारंपरिक राजस्थानी साफा पहना हुआ था। उन्होंने खुद को साफे से दूर करने का फैसला किया था जो कि संस्कृति का एक प्रतीक है। राजस्थानी साफा राजस्थान में संस्कृति और परंपराओं का एक अभिन्न हिस्सा है। खासकर चुनाव प्रचार में तो हर पार्टी का हर नेता साफा पहनता है लेकिन प्रचार अभियान के दौरान जब भी सचिन पायलट को लोगों और उनके समर्थकों ने स्वागत के रूप में साफा भेंट किया तो पायलट उसे माथे से लगाकर रख दिया करते थे।

सीएम पद के लिए गहलोत और डिप्टी सीएम के लिए सचिन पायलट ने ली शपथ - भाजपा नेता एवं राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने राज्य के नये मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पदभार ग्रहण करने पर बधाई दी है। इसके साथ ही उन्होंने उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को भी बधाई व शुभकामनाएं दी| राजे ने ट्विटर पर इन दोनों नेताओं को बधाई दी और भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी। ट्विटर पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजे को धन्यवाद भी दिया। राजे ने शपथ ग्रहण समारोह के  मंच पर अन्य नेताओं के साथ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से भी दुआ सलाम की। समारोह में पहुंचीं पूर्व सीएम वसुंधरा राजे को कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया को गले लगाते भी देखा गया। पूर्व सीएम रिश्ते में ज्योतिरादित्य की बुआ हैं।

जयपुर से प्रकाशित एवं प्रसारित न्यूज़ पेपर

दैनिक चमकता राजस्थान

सम्बन्धित खबरें पढने के लिए यहाँ देखे
See More Related News
post business listing – INDIA
Follow us: Facebook
Follow us: Twitter
Google Plus
Share on Google Plus

About Team CR

Dainik Chamakta Rajasthan to provide lightning fast, reliable and comprehensive informative information to our visitors in the form of news and articles.

0 comments:

Post a Comment