राजेंद्र राठौड़ ने कांग्रेस पर साधा निशाना

कहा- शीर्ष नेतृत्व भ्रष्टाचार की गंगोत्री

जयपुर। पूर्व मंत्री एवं भाजपा विधायक राजेंद्र राठौड़ ने कहा है कि अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री बनवाने में जिस तरह प्रियंका गांधी वाड्रा ने मदद की है, उससे साफ है कि कांग्रेस ने सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ दर्ज मामले दबाने के लिए पुरस्कृत किया है।
प्रदेश भाजपा मुख्यालय में सोमवार को आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में राठौड़ ने कहा कि राज्य के महाधिवक्ता नियुक्त महेंद्र सिंघवी की विद्वता पर हम कोई सवाल नहीं उठा रहे हैं, लेकिन अशोक गहलोत के मुख्यमंत्री बनने से लेकर जमीनों के मामले में वाड्रा के वकील रहे सिंघवी के राज्य के महाधिवक्ता बनने के तक के खेल में एक गठजोड़ और दबाव साफतौर पर दिख रहा है। उन्होंने कहा कि रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ 18 एफआईआर दर्ज है। इससे साबित होता है कि उन्होंने राजस्थान में जमीन की जमकर लूट की है। उनके केसों को कमजोर करने के लिए अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री बना कर पुरस्कृत किया गया है।
भ्रष्टाचार की गंगोत्री
राठौड़ ने अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर घोटाले का मामला उठाते हुए कहा कि भ्रष्टाचार की गंगोत्री कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व से निकल रही है। उन्होंने कहा कि दिल्ली के पटियाला कोर्ट में ईडी ने जो चार्जशीट पेश की है, उससे साफ जाहिर है कि अगस्ता वेस्टलैंड के घोटाले में कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व ने रिश्वत ली है। उन्होंने कहा कि कि 12 हेलीकॉप्टर के लिए 3546 करोड़ रुपए का जो भुगतान किया गया था, उसमें से 307 करोड़ रुपए की रिश्वत ली गई थी। इसमें 125 करोड़ रुपए सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार अहमद पटेल के नाम से लेने के आरोप इटली के कोर्ट में साबित हो चुके हंै।
किसान-युवा निराश
राठौड़ ने पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार के फैसलों से जनता निराश है। किसानों की कर्ज माफी और युवाओं को दिए जाने वाले बेरोजगारी भत्ते के संदर्भ में कोई ठोस काम नहीं हुए है। उन्होंने कहा कि दस दिन में कर्ज माफी का वादा करने वाले गहलोत ने 20 आईएएस को 11 राज्यों की कर्जमाफी योजना की जानकारी लेने के लिए दौरे पर भेज दिया। यह किसानों के साथ धोाखा है। पंचायतीराज चुनावों में शैक्षणिक योग्यता समाप्त करके कांग्रेस प्रोग्रेसिव कानून को समाप्त कर रही है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी कांग्रेस को निरंकुश हाथी की तरह काम नहीं करने देगी।
गहलोत को दी चुनौती
भाजपा को आवंटित जमीनों की जांच के सवाल पर राठौड़ ने कहा कि हमने पंजीकृत राजनीतिक दलों को जमीन आवंटन की नीति बनाई थी। नीति के अनुरूप ही भाजपा को जमीन आवंटित हुई है। कांग्रेस ने उस समय कहीं कोई आवेदन किया हो और जमीन नहीं दी हो तो बताएं? गहलोत ने पिछली बार भी न केवल जांच करवाई थी, बल्कि जांच के लिए आयोग भी गठित किया था। जांच में कुछ नहीं मिला था। उन्होंने मुख्यमंत्री गहलोत को चुनौती दी कि छह माह ही क्यों, पूरे पांच साल की जांच करवा लीजिए, कहीं कोई गड़बड़ी नहीं मिलेगी।
सत्र बुलाने से क्यों डर रही सरकार
राठौड़ ने कहा कि कांग्रेसी सरकार विधानसभा सत्र आहूत करने से भी डर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार के दूध के दांत भी अभी टूटे नहीं हैं कि विरोध शुरू हो गया है। कांग्रेस नेता भंवर लाल शर्मा, विधायक जाहिदा खान और हेमाराम चौधरी अपने समर्थकों के साथ विरोध प्रदर्शन कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने सरकार तो बना ली, लेकिन अभी तक विधानसभा अध्यक्ष तक नामजद नहीं कर पाई है। उन्होंने कहा कि जो सरकार चुनाव के इतने दिन बाद भी विधानसभा सत्र आहूत नहीं कर पा रही है, कैसे काम कर पाएगी, यह सोचनीय विषय है।
Share on Google Plus

About CR Team

Dainik Chamakta Rajasthan to provide lightning fast, reliable and comprehensive informative information to our visitors in the form of news and articles.

0 comments:

Post a Comment