Hawa Mahal is a palace in Jaipur

Hawa Mahal is a palace in Jaipur





In 1799, the Kachhwaha Rajput ruler, Sawai Pratap Singh, grandson of Maharaja Sawai Jai Singh ordered Lal Chand Usta to construct an extension to the Royal City Palace. The Purdah system at the time was strictly followed. Rajput royal ladies should not be seen by strangers or appear in any public area. The construction of Hawa Mahal allows the royal ladies to enjoy from every day street scenes to royal processions on the street without being seen.



हवा महल भारत के जयपुर में स्थित एक राजसी-महल है, हवामहल का मतलब है कि हवाओं की एक जगह, यानी कि यह एक ऐसी अनोखी जगह है, जो पूरी तरह से ठंडा रहता है।
हवामहल को साल 1799 में महाराज सवाई प्रताप सिंह ने बनवाया था, इस पांच मंजिला इमारत को बहुत ही अनोखे ढंग से बनाया गया है।
इसका नाम हवा महल इसलिये रखा गया क्योंकि महल में महिलाओ के लिये ऊँची दीवारे बनी हुई है ताकि वे आसानी से महल के बाहर हो रहे उत्सवो का अवलोकन कर सके और उन्हें देख सके।
यह महल ऊपर से तो केवल डेढ़ फुट चौड़ी है और बाहर से देखने में किसी मधुमक्खी के छत्ते के समान दिखती है।

For more videos Please visit us at our Youtube here...

दैनिक चमकता राजस्थान
Dainik Chamakta Rajasthan e-paper and daily Newspaper, Publishing from Jaipur Rajasthan


सम्बन्धित खबरें पढने के लिए यहाँ देखे
Share on Google Plus

About Team CR

Dainik Chamakta Rajasthan to provide lightning fast, reliable and comprehensive informative information to our visitors in the form of news and articles.

0 comments:

Post a Comment