नीट काउंसलिंग में गड़बडी का आरोप : एसएमएस मेडिकल कॉलेज में विद्यार्थियों का धरना-प्रदर्शन

चमकता राजस्थान, जयपुर ।
एमबीबीएस पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए आयोजित नीट की काउंसलिंग में बड़े गड़बड़झाले का आरोप लगाते हुए रविवार को शुरू हुआ विवाद बढ़ता ही जा रहा है।
rajastha-medcal-student

पूरे मामले में सनसनीखेज आरोप यह भी है कि बड़े मेडिकल कॉलेजों में चुनिंदा अभ्यर्थियों को फायदा पहुंचाने के लिए डमी अभ्यर्थियों को सीटें भी आवंटित कर दी गई। हालांकि नीट काउंसलिंग बोर्ड दो चरण की ऑनलाइन काउंसलिंग को इसका बड़ा कारण हो सकता है।

medical

लेकिन बड़ा सवाल यह है कि अभ्यर्थी पहले से ही दो चरण की ऑनलाइन काउंसलिंग पर सवाल खड़े कर रहे थे। इसके बावजूद इसी प्रणाली को अपनाया गया। इस पूरे मामले की पड़ताल और अभ्यर्थियों से बातचीत में यह भी सामने आया कि जिन टॉपर विद्यार्थियों ने पहले चरण में जॉइनिंंग नहीं दी, उन्हीं विद्याथियों को दूसरे चरण में भी प्राथमिकता दे दी गई। ऐसे में दोनों चरण होने के बवजूद टॉप कॉलेजों की सीटें खाली रह गईं। अब अभ्यर्थियों का आरोप है कि जानबुझकर टॉपर डमी अभ्यर्थियों से सीटें भरी गई, जिससे कि मॉपअप चरण में नीचे रैंक वालों को सीटें मिल जाए। उधर, इस पूरे विवाद के बाद अब एसएमएस मेडिकल कॉलेज में विद्यार्थियों ने धरना शुरू कर दिया है।

आरक्षण को लेकर भी सवाल
मॉपअप चरण में अनुसूचित जाति, जनजाति और ओबीसी की रिक्त सीटों को डिस्प्ले नहीं किया गया और न ही वर्गवार वरीयता सूची बनाई गई। इसमें एकमात्र वरीयता सूची बनाकर सभी रिक्त सीटों को सामान्य वर्ग से भर दिया गया।
चिकित्सा मंत्री ने की शिकायतों की समीक्षा
चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने सभी शिकायतों की समीक्षा कर निर्धारित प्रावधानों के अनुसार सीट आवंटन प्रक्रिया पूरी करने के निर्देश दिए हैं। चिकित्सा शिक्षा शासन सचिव हेमंत गेरा सहित चिकित्सा शिक्षा से जुड़े वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक कर नीट परीक्षा 2019 के तहत सीट आवंटन की प्रक्रिया में पारदर्शिता रखने की बात कही।
Share on Google Plus

About CR Team

Dainik Chamakta Rajasthan to provide lightning fast, reliable and comprehensive informative information to our visitors in the form of news and articles.

0 comments:

Post a Comment