राजस्थान के विधायकों ने बसपा को धोखा दिया: मायावती

जयपुर ।

राजस्थान में सोमवार देर रात बहुजन समाज पार्टी के छह विधायक कांग्रेस में शामिल हो गए। इस पर बसपा सुप्रीमो की तीखी प्रतिक्रिया सामने आई है।

उन्होंने एक के बाद एक तीन ट्वीट कर कांग्रेस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि राजस्थान में कांग्रेस ने बसपा के विधायकों को तोड़कर गैर-भरोसेमन्द व धोखेबाज पार्टी होने का प्रमाण दिया है। यह बसपा मूवमेन्ट के साथ विश्वासघात है।
मायावती के तीन ट्वीट-
राजस्थान में कांग्रेस पार्टी की सरकार ने एक बार फिर बसपा विधायकों को तोड़कर गैर-भरोसेमन्द व धोखेबाज़ पार्टी होने का प्रमाण दिया है। यह बीएसपी मूवमेन्ट के साथ विश्वासघात है जो दोबारा तब किया गया है जब बीएसपी वहां कांग्रेस सरकार को बाहर से बिना शर्त समर्थन दे रही थी।Ó
'कांग्रेस अपनी कटु विरोधी पार्टी/संगठनों से लडऩे की बजाए हर जगह उन पार्टियों को ही सदा आघात पहुंचाने का काम करती है जो उन्हें सहयोग/समर्थन देते हैं। कांग्रेस इस प्रकार एससी, एसटी,ओबीसी विरोधी पार्टी है तथा इन वर्गों के आरक्षण के हक के प्रति कभी गंभीर व ईमानदार नहीं रही है।
कांग्रेस हमेशा ही बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर व उनकी मानवतावादी विचारधारा की विरोधी रही। इसी कारण डॉ. अम्बेडकर को देश के पहले कानून मंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा। कांग्रेस ने उन्हें न तो कभी लोकसभा में चुनकर जाने दिया और न ही भारतरत्न से सम्मानित किया। अति-दु:खद व शर्मनाक।Ó
सोमवार देर रात सभी विधायक कांग्रेस में हुए शामिल
राजस्थान में बसपा के सभी 6 विधायकों ने सोमवार देर रात कांग्रेस जॉइन की। वे करीब रात 10:30 बजे विधानसभा पहुंचे। जहां बसपा विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी को पार्टी जॉइन करने का पत्र सौंपा। बताया जा रहा है कि ये विधायक पिछले लंबे वक्त से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के संपर्क में थे।
ये है 6 विधायक
राजेन्द्र गुढा (विधायक, उदयपुरवाटी),
जोगेंद्र सिंह अवाना (विधायक, नदबई),
वाजिब अली (विधायक, नगर),
लाखन सिंह मीणा (विधायक, करोली),
संदीप यादव (विधायक, तिजारा) और
बसपा विधायक दीपचंद खेरिया, किशनगढ़बास 
Share on Google Plus

About CR Team

Dainik Chamakta Rajasthan to provide lightning fast, reliable and comprehensive informative information to our visitors in the form of news and articles.

0 comments:

Post a Comment