बुराई पर अच्छाई की हुई जीत, टूटा रावण का दंभ

जयपुर (कासं)। बुराई पर अच्छाई की जीत का पर्व विजयादशमी मंगलवार को मनाया गया। शाम होते ही जगह-जगह रावण के पुतलों का दहन किया गया।

इससे पहले भव्य आतिशबाजी की गई। राजधानी जयपुर में सबसे बड़ा 105 से अधिक ऊंचे रावण पुतले का दहन आदर्श नगर के दशहरा मैदान में किया गया। इससे पहले गगनचुम्बी आतिशबाजी की गई, जिसे देखने के लिए शहर उमड़ पड़ा। इसके अलावा कई जगहों पर रावण दहन किया गया।

श्रीराम मंदिर प्रन्यास श्रीसनातन धर्म सभा के तत्वावधान में दशहरा मैदान में दशहरा मेले का आयोजन किया गया। यहां 105 फीट से अधिक ऊंचे रावण का दहन किया गया। वहीं करीब 90 फीट ऊंचे कुंभकरण के पुतले का दहन किया गया। इससे पहले आतिशबाजी की गई, जिसमें रावण की नाभी व सिर पर अग्निचक्र चलता तो आसमान से अशर्फियां गिरती हुई नजर आई। दहन से पहले रावण मुंह से आग उगलता और आंखों से शोले निकालता नजर आया। इसे देख दर्शक रोमांचित हो उठे। रावण की तलवार से चिंगारियां फूटती हुई नजर आई। यहां आतिशबाजी में आसमान में नियाग्रा फाल का नजारा भी देखने को मिला। इससे पहले श्रीराम शेाभायात्रा निकाली गई। श्रीराम मंदिर से शोभायात्रा को रवाना किया गया, जिसमें लवाजमे के साथ भगवान श्रीराम और लक्ष्मण के स्वरूप शामिल हुए। शेाभायात्रा में एक झांकी पंचवटी और स्वर्ण मृग की शामिल हुई, वहीं ताडक़ा वध और श्रीनाथजी की झांकी भी लोगों के बीच आकर्षण का केन्द्र रही। शोभायात्रा दशहरा मैदान पहुंची। इसके बाद श्रीराम स्वरूप ने अग्निबाण चलाकर रावण की नाभि का अमृतकुण्ड सुखाया और आतिशबाजी शुरू हुई। इसके साथ ही रावण के दसों सिर एक-एक कर आग से नष्ट होते गए।
Share on Google Plus

About CR Team

Dainik Chamakta Rajasthan to provide lightning fast, reliable and comprehensive informative information to our visitors in the form of news and articles.

0 comments:

Post a Comment