भगवान शिव के 108 नाम




भगवान शिव को अधिकतर शिवलिंग के रूप में पूजा जाता है और सभी धार्मिक स्थलों पर भगवान शिव के साथ – साथ उनके परम भगत नन्दी  की पूजा भी की जाती है। भगवान शिव के कई रूप हैं और इन रूपों के नाम भी अलग-अलग हैं। भगवन शिव के विभिन्न नामों  में से मुख्य 108 नाम निम्न हैं:
  1. शिव
  2. महेश्वर
  3. शम्भू
  4. पिनाकी
  5. शशिशेखर
  6. वामदेव
  7. विरूपाक्ष
  8. कपर्दी
  9. नीललोहित
  10. शंकर
  11. शूलपाणी
  12. खटवांगी
  13. विष्णुवल्लभ
  14. शिपिविष्ट
  15. अंबिकानाथ
  16. श्रीकण्ठ
  17. भक्तवत्सल
  18. भव
  19. शर्व
  20. त्रिलोकेश
  21. शितिकण्ठ
  22. शिवाप्रिय
  23. उग्र
  24. कपाली
  25. कामारी
  26. सुरसूदन
  27. गंगाधर
  28. ललाटाक्ष
  29. महाकाल
  30. कृपानिधि
  31. भीम
  32. परशुहस्त
  33. मृगपाणी
  34. जटाधर
  35. कैलाशवासी
  36. कवची
  37. कठोर
  38. त्रिपुरांतक
  39. वृषांक
  40. वृषभारूढ़
  41. भस्मोद्धूलितविग्रह
  42. सामप्रिय
  43. स्वरमयी
  44. त्रयीमूर्ति
  45. अनीश्वर
  46. सर्वज्ञ
  47. परमात्मा
  48. सोमसूर्याग्निलोचन
  49. हवि
  50. यज्ञमय
  51. सोम
  52. पंचवक्त्र
  53. सदाशिव
  54. विश्वेश्वर
  55. वीरभद्र
  56. गणनाथ
  57. प्रजापति
  58. हिरण्यरेता
  59. दुर्धुर्ष
  60. गिरीश
  61. गिरिश्वर
  62. अनघ
  63. भुजंगभूषण
  64. भर्ग
  65. गिरिधन्वा
  66. गिरिप्रिय
  67. कृत्तिवासा
  68. पुराराति
  69. भगवान्
  70. प्रमथाधिप
  71. मृत्युंजय
  72. सूक्ष्मतनु
  73. जगद्व्यापी
  74. जगद्गुरू
  75. व्योमकेश
  76. महासेनजनक
  77. चारुविक्रम
  78. रूद्र
  79. भूतपति
  80. स्थाणु
  81. अहिर्बुध्न्य
  82. दिगम्बर
  83. अष्टमूर्ति
  84. अनेकात्मा
  85. सात्त्विक
  86. शुद्धविग्रह
  87. शाश्वत
  88. खण्डपरशु
  89. अज
  90. पाशविमोचन
  91. मृड
  92. पशुपति
  93. देव
  94. महादेव
  95. अव्यय
  96. हरि
  97. पूषदन्तभित्
  98. अव्यग्र
  99. दक्षाध्वरहर
  100. हर
  101. भगनेत्रभिद्
  102. अव्यक्त
  103. सहस्राक्ष
  104. सहस्रपाद
  105. अपवर्गप्रद
  106. अनंत
  107. तारक
  108. परमेश्वर
भगवान शिव के इन 108 नामो का समरण सावन के महीने में करने से व्यक्ति को परम शांति की अनुभूति होती है और भगवान शिव की कृपा बनी रहती  है ।

Share on Google Plus

About CR Team

Dainik Chamakta Rajasthan to provide lightning fast, reliable and comprehensive informative information to our visitors in the form of news and articles.

0 comments:

Post a Comment