दिल्ली में मौजूदा हालत चिंताजनक : सोनिया गांधी


नई दिल्ली

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने दिल्ली की हिंसा के लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए गृहमंत्री अमित शाह से इस्तीफे की मांग की है। सोनिया गांधी ने कहा कि दिल्ली पुलिस मूक दर्शक बनकर हिंसा को होते हुए देखती रही। आखिर, जब हिंसा हो रही थी, तब प्रधानमंत्री कहां थे उन्होंने कहा कि हिंसा के पीछे एक साजिश है, देश ने दिल्ली चुनाव के दौरान भी यह देखा था। कई भाजपा नेताओं ने नफरत का माहौल बनाते हुए भड़काऊ टिप्पणियां की थीं। सोनिया गांधी ने कहा कि दिल्ली के हालात इन दिनों बेहद चिंताजनक है। पिछले 72 घंटों में 20 ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। दिल्ली पुलिस पिछले 72 घंटों में पंगु बनी हुई है। मरने वालों में एक हेड कांस्टेबल भी शामिल है और सैकड़ों लोग अस्पताल में हैं। इनमें से कई लोग गोलीबारी में घायल हुए हैं। नॉर्थ ईस्ट दिल्ली की सड़कों पर हिंसा जारी है। दिल्ली की वर्तमान स्थिति के लिए केंद्र और केंद्रीय गृहमंत्री जिम्मेदार हैं। गृहमंत्री अमित शाह को इसकी जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दे देना चाहिए। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि केंद्र और दिल्ली सरकार के नेताओं को आगे आना चाहिए था वाजपेयी सरकार का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि उस दौरान भी मैं एलओपी थी, जब भी कोई दिक्कत होती तो वह खुद ही सभी दलों के नेताओं से बात करते थे।
सोनिया ने केंद्र से पूछे ये तीखे सवाल
-सोनिया गांधी ने पूछा, दिल्ली में इतनी हिंसा होने के बावजूद अर्धसैनिकबलों को क्यों नहीं बुलाया गया
-भड़काऊ भाषण देने वाले भारतीय जनता पार्टी के नेताओं पर अब तक कार्रवाई क्यों नहीं हुई
-गृहमंत्री अमित शाह बताएं कि वह रविवार से कहां थे और क्या कर रहे थे
कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस को एक मार्च आयोजित करना था और आज राष्ट्रपति को एक ज्ञापन देना था, लेकिन उन्होंने जानकारी दी कि वह अनुपलब्ध है और कल हमें उसने मिले समय दिया गया है। उनके सम्मान में हमने कल के लिए मार्च स्थगित कर दिया है।
शांति की मांग के लिए राष्ट्रपति भवन तक करेंगे मार्च
नयी दिल्ली । नयी दिल्ली। कांग्रेस नेता बुधवार को कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक के बाद हिंसा प्रभावित उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात सामान्य करने और शांति की मांग के लिए राष्ट्रपति भवन तक मार्च करेंगे। पार्टी सूत्रों ने यह जानकारी दी। कांग्रेस नेता राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को एक ज्ञापन भी सौंपेंगे। सीडब्ल्यूसी की बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, वरिष्ठ नेता एके एंटनी, केसी वेणुगोपाल और कई अन्य नेता शामिल हुए। सीडब्ल्यूसी कांग्रेस की सर्वोच्च नीति निर्धारण इकाई है। गौरतलब है कि दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) का समर्थन करने वाले और विरोध करने वाले समूहों के बीच संघर्ष ने साम्प्रदायिक रंग ले लिया था। प्रदर्शनकारियों ने कई घरों, दुकानों तथा वाहनों में आग लगा दी।
Share on Google Plus

About CR Team

Dainik Chamakta Rajasthan to provide lightning fast, reliable and comprehensive informative information to our visitors in the form of news and articles.

0 comments:

Post a comment