राजस्थान में करीब 10 हजार वेंटिलेटर व काफी ज्यादा टेस्ट किट की जरूरत पड़ेगी : गहलोत

Chief Minister Ashok Gehlot Will Visit Bikaner Tomorrow ...
मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉफ्रेंसिंग के माध्यम से ली चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की मीटिंग गहलोत के निर्देश-भीलवाड़ा जिले को कोरोना का एपीसेंटर बनने से रोकने के हरसंभव प्रयास करें देशभर में कोरोना संकट के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत शनिवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के उच्चाधिकारियों और बड़े डॉक्टरों की एक मीटिंग ली। जिसमें मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि कोविड-19 (कोरोना) के व्यापक संक्रमण को रोकने के लिए आने वाले वक्त में राजस्थान में करीब 10 हजार वेंटिलेटर और ज्यादा से ज्यादा टेस्ट किट की जरूरत पड़ेगी। इसके लिए सीएम ने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग को पर्याप्त मात्रा में वेंटिलेटर एवं टेस्ट किट का इंतजाम करके रखने के निर्देश दिए है। मुख्यमंत्री का यह बयान संकेत दे रहा है कि प्रदेश में आने वाले वक्त में कोरोना संकट गहरा सकता है और यहां कोरोना पीडि़तों की संख्या बढ़ सकती है। वहीं, भीलवाड़ा में कम्यूनिटी स्प्रेंडिंग का भी खतरा मंडराता नजर आ रहा है।
भीलवाड़ा को कोरोना का एपीसेंटर बनने से रोकने के हरसम्भव उपाय करने के निर्देश
स्वास्थ्य विभाग की मीटिंग में मुख्यमंत्री गहलोत ने आईसीएमआर से रैपिड टेस्ट किट को मंजूरी मिलते ही इनकी जल्द खरीद के निर्देश भी दिए ताकि अधिक संख्या में संदिग्ध लोगों की स्क्रीनिंग की जा सके। सीएम ने कहा कि रैपिड टेस्ट किट की मदद से भीलवाड़ा में बड़े स्तर पर स्क्रीनिंग कर वहां संभावित कम्यूनिटी स्प्रेड को सही वक्त पर रोका जा सकता है। गहलोत ने भीलवाड़ा जिले को कोरोना का एपीसेंटर बनने से रोकने के हरसम्भव उपाय करने को कहा। सीएम ने वेंटिलेटर की खरीद भी जल्द से जल्द करने के निर्देश दिए।
बच्चों व बुजुर्गों को संक्रमण का खतरा सबसे ज्यादा
मुख्यमंत्री ने कहा कि बुजुर्गों को संक्रमण का खतरा सबसे ज्यादा है। ऐसे में उन पर विशेष ध्यान दिया जाये। विश्वभर के आंकड़े बताते हैं कि कोविड-19 से होने वाली मौतों में सर्वाधिक संख्या 79 वर्ष से अधिक की उम्र वाले बुजुर्गों की है। ऐसे में आमजन में जागरूकता पैदा की जाये कि बच्चों एवं बुजुर्गों को दूसरों से ज्यादा घुलने मिलने नहीं दें। जिससे उनमें संक्रमण का खतरा पैदा नहीं हो।
लॉकडाउन के दौरान राजकॉप सिटीजन मोबाइल एप पर कर सकेंगे इमरजेंसी पास के लिए आवेदन
जयपुर (संवाद)। कोरोना महामारी के चलते पूरे देश में 14 अप्रैल, 2020 तक सम्पूर्ण लॉक-डाउन किया गया है। इससे राजस्थान में भी लॉकडाउन जारी है। इस दौरान आमजन को आवश्यक सेवाओं के लिए, दैनिक उपभोग की वस्तुऐं एवं मेडिकल सुविधाओं हेतु घर से बाहर निकलने की आवश्यकता रहती है। ऐसे में आपात वक्त के दौरान इमरजेंसी पास राजकॉप सिटीजन मोबाइल एप पर आवेदन कर प्राप्त कर सकते है।  इसके लिए राजस्थान पुलिस द्वारा आमजन को राहत देने के लिए राज कॉप सिटीजन एप  पर लॉक डाउन पास के नाम से फीचर दिया गया है। इस सुविधा के लिए आमजन अपने मोबाईल पर गूगल प्ले स्टोर से राजकॉप सिटीजन मोबाइल एप्प (क्रड्डद्भष्टशश्च ष्टद्बह्लद्ब5द्गठ्ठ रूशड्ढद्बद्यद्ग ्रश्चश्च) डाउनलोड करने के बाद एसएसओ आईडी से लॉगिन कर इस सुविधा का उपयोग कर सकता है। लॉगिन के बाद आमजन व व्यावसायिक फर्म द्वारा उचित कारणों के साथ आवेदन किया जा सकता है। जिस पर संबंधित जिला प्रशासन / पुलिस / अन्य सक्षम अधिकारी द्वारा विचार किया जाकर आवश्यकतानुसार ऑनलाईन डिजीटल पास जारी होकर संबंधित आवेदक की ई-मेल आईडी पर प्राप्त हो सकेगा। इस लिंक (द्धह्लह्लश्चह्य://ह्यह्यश.ह्म्ड्डद्भड्डह्यह्लद्धड्डठ्ठ.द्दश1.द्बठ्ठ/ह्म्द्गद्दद्बह्यह्लद्गह्म्>) पर क्लिक कर स्स्ह्र ढ्ढष्ठ बनाई जा सकेगी।

Share on Google Plus

About CR Team

Dainik Chamakta Rajasthan to provide lightning fast, reliable and comprehensive informative information to our visitors in the form of news and articles.

0 comments:

Post a Comment