भारतीय तटों की ओर बढ़ा ‘अम्फान’ बारिश शुरू, कई मकान तबाह

भारतीय तटों की ओर बढ़ा ‘अम्फान’, बारिश शुरू, कई मकान तबाह

कोलकाता/भुवनेश्वर । अत्यधिक भीषण चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ बुधवार को भारतीय तटों की ओर तेजी से आगे बढ़ा जिसके कारण तटीय ओडिशा औरपश्चिम बंगाल में बारिश शुरू हो गई, कई मकान ढह गए और चार लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाना पड़ा। एक समय पर महाचक्रवात बताया जा रहा यह तूफान मंगलवार से भले ही थोड़ा कमजोर हो रहा है, लेकिन इसने दो पूर्वी राज्यों में तबाही मचाने के लिए आगे बढऩा शुरू कर दिया है। ओडिशा के विशेष राहत आयुक्त (एसआरसी) पी के जेना ने बताया कि ओडिशा के निचले तटीय इलाकों से 1.25 लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है और बालासोर जैसे कई स्थानों पर यह कार्य अब भी जारी है। पश्चिम बंगाल में तीन लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया हौ। पुरी, खुर्दा, जगतसिंहपुर, कटक, केंद्रपाडा, जाजपुर, गंजाम, भद्रक और बालासोर जिलों के कई स्थानों में मंगलवार से भारी बारिश हो रही है। हालांकि तूफान ओडिशा में पारादीप के पूर्व- दक्षिणपूर्व में करीब 120 किलोमीटर, दीघा (पश्चिम बंगाल) के दक्षिण-दक्षिणपूर्व में 125 किलोमीटर और कोलकाता के दक्षिण में करीब 220 किलोमीटर दूर है लेकिन इसका असर दोनों राज्यों में दिखाई देने लगा है। भारत के मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि ‘अम्फान’ के सुंदरवन के निकट बांग्लादेश में हटिया द्वीप और दीघा के बीच से बुधवार दोपहर से शाम के बीच गुजरने की संभावना है। एक मौसम वैज्ञानिक ने बताया कि तूफान के केंद्र के आस-पास हवाओं की गति लगातार 170 से 180 किलोमीटर प्रति घंटा बनी रही, जिन्होंने बीच-बीच में 200 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ी।

बालासोर में बारिश और तेज हवाएं 

कोलकाता । चक्रवात ‘अम्फान’ बुधवार सुबह पश्चिम बंगाल के दीघा से करीब 240 किलोमीटर दक्षिण में अत्यधिक गंभीर चक्रवाती तूफान के रूप में केंद्रित है। मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि तूफान के केंद्र के निकट हवाओं की गति लगातार 170 से 180 किलोमीटर प्रति घंटा बनी रही जिसने बीच-बीच में 200 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ी।
मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि ‘अम्फान’ के उत्तर-उत्तरपूर्व दिशा की ओर बढऩे और बुधवार की दोपहर से शाम तक ‘अत्यंत भीषण चक्रवाती तूफान’ के रूप में सुंदरवन के निकट पश्चिम बंगाल-बांग्लादेश तटों के बीच दीघा और हटिया द्वीप के बीच से गुजरने की संभावना है। इस दौरान हवाओं की गति निरंतर 155 से 165 किलोमीटर प्रति घंटा बनी रहेगी, जो बीच-बीच में 185 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ सकती है। मौसम विभाग ने पश्चिम बंगाल के लिए ‘‘ऑरेंज अलर्ट जारी किया है और आगाह किया है कि कोलकाता, हुगली, हावड़ा, दक्षिण और उत्तर 24 परगना और पूर्वी मिदनापुर जिलों में बड़े पैमाने पर नुकसान हो सकता है। मौसम विज्ञान विभाग ने कोलकाता और निकटवर्ती इलाकों में 20 मई को सभी संस्थान एवं बाजार बंद करने और लोगों के आवागमन पर प्रतिबंध लगाने की सलाह दी है। मौसम वैज्ञानिकों ने कहा है कि कई स्थानों पर रेल एवं सडक़ मार्ग बाधित हो सकते हैं, बिजली एवं संचार के खंभे उखड़ सकते हैं और सभी प्रकार के ‘कच्चे’ घरों को अत्यंत नुकसान होगा।
 मौसम विभाग ने तैयार फसलों एवं बाग-बगीचों को भारी नुकसान होने की आशंका जताई है। मौसम विभाग ने सलाह दी है कि जिन जिलों के प्रभावित होने की आशंका है, उनमें सडक़ यातायात और रेल सेवा का मार्ग परिवर्तित किया जाए या उन्हें निलंबित किया जाए। महाचक्रवात ‘अम्फान’ के कारण हावड़ा-नयी दिल्ली एसी स्पेशल एक्सप्रेस ट्रेन बुधवार को रद्द कर दी गई।  पूर्व रेलवे ने बताया कि इस चक्रवात के कारण भारी बारिश होने और तूफान आने की आशंका है। इसी के मद्देनजर बुधवार को रवाना होने वाली 02301 हावड़ा-नयी दिल्ली एसी स्पेशल एक्सप्रेस और 21 मई को चलने वाली नयी दिल्ली-हावड़ा एसी स्पेशल एक्सप्रेस को रद्द कर दिया गया है।





छात्र अपने ही स्कूलं में देंग हुई  बची सीबीएसई परीक्षाए
नयी दिल्ली। सीबीएसई की 10वीं एवं 12वीं कक्षा की लंबित परीक्षा देने के लिये छात्रों को उन केंद्रों पर उपस्थित होना होगा जहां से उन्होंने पंजीकरण कराया है और यह किसी बाह्य केंद्र पर नहीं होंगी। मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने यह जानकारी दी। मंत्रालय जुलाई के अंत तक परीक्षा परिणाम घोषित करने की योजना बना रहा है। इस दिशा में लॉकडाउन की घोषणा होने से पहले जिन विषयों की परीक्षाएं हो गई थी, उनके मूल्यांकन की प्रक्रिया पहले ही शुरू हो चुकी है। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के अधिकारियों ने बताया कि छात्रों को अपने अपने स्कूल में उपस्थित होना होगा और किसी बाह्य केंद्र पर नहीं।  बोर्ड के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘छात्रों को अपने स्कूल में उपस्थित होना होगा और किसी बाह्य केंद्र पर नहीं ताकि कम से कम यात्रा करनी पड़े। स्कूलों को यह सुनिश्चित करना होगा कि सामाजिक दूरी के दिशा निर्देशों का पालन हो और छात्रों को अपने साथ सैनिटाइजर और चेहरे का मास्क लाना होगा।’’ गौरतलब है कि बोर्ड ने सोमवार को 10वीं एवं 12वीं कक्षा की लंबित परीक्षा की तिथियों की घोषणा कर दी थी जो 1-15 जुलाई के बीच होंगी और सामाजिक दूरी बनाये रखने के दिशा निर्देशों का सख्ती से पालन करना होगा। ये परीक्षाएं कोविड-19 के प्रसार के कारण स्कूल बंद होने और 25 मार्च से लागू लॉकडाउन के कारण स्थगित कर दी गई थी। 12वीं कक्षा के लिये लंबित परीक्षा पूरे देश में आयोजित होगी जबकि 10वीं कक्षा की शेष परीक्षा केवल उत्तर पूर्व दिल्ली के लिये आयोजित की जायेंगी।  उत्तर पूर्व दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर कानून व्यवस्था की स्थिति के कारण परीक्षा स्थगित करनी पड़ी थी। मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा है कि परीक्षा परिणाम जुलाई के अंत तक घोषित करने के प्रयास किये जा रहे हैं।
Share on Google Plus

About CR Team

Dainik Chamakta Rajasthan to provide lightning fast, reliable and comprehensive informative information to our visitors in the form of news and articles.

0 comments:

Post a comment