जांबाज पुलिस अधिकारी विष्णु दत्त को आत्महत्या के लिए क्यों बाध्य होना पड़ा, सामने आए हकीकत

Realeated News

यह भी पढ़ें - ईमानदारी फांसी पर झूल गयी



जयपुर ।

राजस्थान के चूरू जिले के राजगढ़ थानाधिकारी विष्णु दत्त विश्नोई के आत्महत्या करने के बाद उनको न्याय देने की मांग उठ रही है। Twitter पर विष्णुदत्त बिशनोई ट्रेंड कर रहा है। लोगों का कहना है कि एक ईमानदार और जांबाज पुलिस अधिकारी को आत्महत्या के लिए क्यों बाध्य होना पड़ा, इसका खुलासा होना चाहिए। मामले की सीबीआई जांच होनी चाहिए।

आमजन को भरोसा और उम्मीद देते थे

डॉ. चयनिका उनियाल ने ट्वीट कर कहा कि मेरी इनसे पहली मुलाकात वर्षो पूर्व सुजानगढ़ थाने में हुई थी। पहली ही मुलाकात में देखकर खुशी हुई कि पुलिस में भरोसा किए जा सकने वाले लोग हैं। वे आमजन को भरोसा और उम्मीद देते थे,जो अक्सर नहीं मिलती। राजनीति से इतर न्याय की उम्मीद में...

सिस्टम पर बड़ा सवालिया निशान

सुनील गोयल ने लिखा कि वह ईमानदार पुलिस अधिकारियों में से एक थे। हम सीबीआई जांच चाहते हैं। वहीं रवि जैनी ने लिखा कि इस घटना ने सरकार के सिस्टम पर बड़ा सवालिया निशान लगा दिया है। राज्य सरकार तुरंत मामले की जांच करवाकर घटना के पीछे की हकीकत से पर्दा हटाए। हजारों लोगों ने विष्णु दत्त विश्नोई को न्याय देने की मांग को लेकर सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया दी है।

सीबीआई जांच की मांग को लेकर धरना

राजगढ़ थानाधिकारी विष्णुदत्त विश्नोई आत्महत्या प्रकरण की सीबीआई जांच कराने की मांग को लेकर श्रीगंगानगर में धरना दिया जा रहा है। थानाधिकारी विष्णुदत्त विश्नोई मूल रूप से श्रीगंगानगर जिले के रायसिंहनगर थानांतर्गत गांव लूनेवाला के निवासी थे। इनके माता-पिता गांव में ही रहते हैं। जो खेती का काम करते हैं।

मित्र ने कहा...

विश्नोई के मित्र एडवोकेट गोवर्धनसिंह भी सादुलपुर पहुंचे। उन्होंने इसे आत्महत्या नहीं बताकर इसे सोची समझी साजिश करार दिया। घटना की जांच में आईजी बीकानेर जोस मोहन व चूरू एसपी तेजस्वनी गौतम को दूर रखने की मांग की।

हनुमान बेनीवाल बोले, पूरे सिस्टम पर सवालिया निशान

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक व नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने चूरू जिले के राजगढ़ थाना अधिकारी विष्णुदत विश्नोई के आत्महत्या कर लेने के प्रकरण में राज्य सरकार से मामले की जांच सीबीआई से करवाने की मांग की। पुलिस अधिकारी ने किसी बड़े तनाव से दबाव के आहत में ऐसा कदम उठाया ऐसे में पूरे सिस्टम पर सवालिया निशान खड़ा होना लाजमी है।

स्थानीय विधायक ने आरोपों को बताया बेबुनियाद

इधर, विधायक डॉ. कृष्णा पूनिया ने कहा कि थानाधिकारी विश्नोई की ओर से आत्महत्या करना दुखदायी है। विश्नोई ईमानदार अधिकारी थे तथा मेरा उनसे ज्यादा मिलना नहीं हुआ। विधायक ने मामले में उच्चस्तरीय जांच की भी आवश्यकता जताई। विधायक ने उन पर लगाए गए आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए कहा कि उन्होंने विश्नोई के तबादले संबंधी कभी कोई शिकायत नहीं की।

राठौड़ का आरोप

थानाधिकारी विष्णुदत्त विश्नाई आत्महत्या मामले में उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ शनिवार शाम को सादुलपुर पहुंचे। उन्होंने विधायक कृष्णा पूनिया पर सीधा आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी झूठी शिकायतों के कारण विश्नोई ने आत्महत्या की है।
सांसद राहुल कस्वा ने विश्नोई को जांबाज पुलिस ऑफिसर बताया तथा कहा कि इस प्रकार आत्महत्या कर लेना बहुत बड़ा संशय पैदा करता है। उन्होंने उच्च स्तरीय जांच के आदेश जारी करने तथा समस्त प्रकरण की सच्चाई सामने लाने की भी मांग की।
Share on Google Plus

About CR Team

Dainik Chamakta Rajasthan to provide lightning fast, reliable and comprehensive informative information to our visitors in the form of news and articles.

0 comments:

Post a comment